बिखरे ये सपने


बिखरे ये सपने 

देखो लहरों की तरफ तुम भी कभी
कभी बिना कहे पूछ कर तो देखो 
देखो कैसे बिखरे परे है सपने मेरे 
मेरे सपनो को फिर से तोड़ कर तो देखो

दिल मे कई उम्मीदें थी छाई
पर मिल गई तुम बनके परछाई
किस्से करू मे फिर दुहाई
उरने की आस मुझे भी थी आई
कभी टूटे हुए सपनो को देखा है
कभी आना
उनको देखना
मेरी जिंदगी नै उनके लिए एक कफ़न है बनाई

Comments

Popular Posts